Recent Visitors

Tuesday, July 16, 2013

दिल चाहता है

तेरी आरजू ऐसी थी की तुझसे मिलने को ,

दिल चाहता है ,

जिन्दगी को फिर एक नए मुकाम से जीने को ,

दिल चाहता है ,

एक बार फिर वही तड़फ पाने को,

दिल चाहता है ,

गुमान था तेरे बिन जीने का ,लेकिन आज फिर तेरे संग जीने को,

दिल चाहता है ,

बहुत हँस लिया ,आज एक बार फिर तेरी जुदाई में रोने को,

दिल चाहता है ,

बहुत रुसवाई देख ली, आज फिर तेरी वफ़ा को ,

दिल चाहता है ,

क्या कशिश है तुझमे , आज फिर ये मालूम करने को,

दिल चाहता है ,

वो पुराने लम्हों को एक बार फिर जीने को ,

दिल चाहता है ,

मौत के पास आकर , आज फिर तेरे संग जीने को, 

दिल चाहता है ,

तेरी आरजू ऐसी थी की तुझसे मिलने को ,

दिल चाहता है ,

21 comments:

  1. दुआ करती हूँ कि ...लिखने के लिए आपका दिल हमेशा ही चाहता रहें

    ReplyDelete
  2. shorya ji bahut sundar bhavon ko abhivyakt kiya hai aapne bas ek sudhar chahti hun ki aap karen -
    किया कसिस है तुझमे , आज फिर ये मालूम करने को,
    दिल चाहता है ,
    yahan किया =kya ,कसिस=kashish
    agar karlen to aapki bhavnayen aur sundarta se mukhrit hongi .
    pls understand this advice a friend advice .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार शालिनी जी, शुद्धिकरण कर दिया गया है ,

      Delete
  3. तेरी आरजू ऐसी थी की तुझसे मिलने को दिल चाहता है..... बहुत सुंदर अभिव्यक्ति .......!

    ReplyDelete
  4. बढ़िया भाव ..
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  5. कभी कभी ऐसा होना भी स्वाभाविक है, सुंदर रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. गुमान था तेरे बिन जीने का,लेकिन आज फिर तेरे संग जीने को,
    दिल चाहता है ,
    बहुत हँस लिया ,आज एक बार फिर तेरी जुदाई में रोने को,
    दिल चाहता है ,... क्या बात है !!

    बहुत ही प्यारी रचना है शौर्य जी ..

    ReplyDelete
  7. achhi abhivyakti .. mujhe lagta hai har pankti ke baad dil chahata hai repeat hone se thoda rachna ka prabhaav kam pad raha hai .. ye mera apna najariya hai ho sakta hai aap isse sehmat na ho ... likhte rahiye aap isse behtar likh sakte hain :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने बिलकुल सही कहा, लेकिन दिल चाहता है को अगर हटाता हूँ तो ये कविता फिर से लिखनी पड़ेगी, बहुत सुक्रिया आपका, कोशिश करूँगा दोबारा लिखने की,

      Delete
  8. बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया लगी पोस्ट।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर और विचाराधीन भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  11. मौत के पास आकर , आज फिर तेरे संग जीने को,
    दिल चाहता है ------------,

    प्रेम में डूबकर जीने की अनुभूति
    बेहतरीन रचना
    बधाई

    आग्रह है--
    केक्ट्स में तभी तो खिलेंगे--------

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति .....!!

    ReplyDelete
  13. प्यारी रचना है शौर्य जी

    राज चौहान
    http://rajkumarchuhan.blogspot.in

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया रचना ...

    ReplyDelete
  16. मौत के पास आकर , आज फिर तेरे संग जीने को,
    दिल चाहता है ,
    तेरी आरजू ऐसी थी की तुझसे मिलने को ,
    दिल चाहता है ,bahut sundar rachna

    ReplyDelete
  17. बहुत ही बेहतरीन रचना..
    सुन्दर...
    :-)

    ReplyDelete