Recent Visitors

Monday, July 29, 2013

वो पीले सूट वाली लड़की .....

वो पीले सूट वाली लड़की ,

आज भी जब याद आती है,

तो दिल मचल उठता है,

उसकी वो सोखी, वो अदाएँ,

वो उसकी आँखों का नशा ,

आज भी हमें दीवाना  बना देता है,

उसकी वो प्यारी सी हसी ,

उसका शरमाना ,

वो नजाकत से बाते करना ,

चेहरे से बार बार ,

जुल्फों को हठाना ,

हमारे लिए,

 उनका वो बे इन्तहा प्यार ,

उनका वो रूठना ,

प्यार से बोलते ही मान जाना,

वो डर कर उनका,

हमारे गले लग जाना,

उनकी वो सांसो की खुशभू ,

वो दिल का जोरो से धड़कना ,

वो बार बार हमें देखना,

आँखों से हाल ऐ दिल बयां करना,

वो मूड मूड कर हमें देखना,

घंटो तक हमसे ,

प्यार की बातें करना,

उनकी वो शरारते ,

वो बार बार हमें पुकारना ,

वो फिर हस कर चले जाना,

उनके चेहरे की वो सादगी ,

वो मासूमियत ,

आज भी जब हमें याद आती है,

तो जिन्दगी में एक बार फिर से,

सब अच्छा से लगने लगता है,

वो पीले सूट वाली लड़की ........................................


  

20 comments:

  1. यही तो है यादें है जो समय के साथ कभी कम नहीं होता
    उसकी खुशबू हमेशा बरक़रार रहती है
    बहुत खुबसूरत रचना !!

    ReplyDelete
  2. यादों में वो लोग भी रहते हैं जो कभी साथ नहीं रह पाते ... इनका एक अलग ही संसार होता है ये यादें कभी अच्छी तो कभी कडवी होती हैं पर यादें तो यादें हैं ....

    ReplyDelete
  3. बहुत खुबसूरत

    ReplyDelete
  4. यादों का हसीं कारवां ..बहुत सुंदर एहसास .....पीले सूट वाली लड़की

    ReplyDelete
  5. यादों के झरोखे से झांकती बहुत ख़ूबसूरत रचना....

    ReplyDelete
  6. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 031/07/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in ....पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत आभार यशोदा जी

      Delete
  7. yaadein kabhi hansaati hui kabhi rulati hui....sundar prem abhivyakti...
    meri nai rachna Os ki boond: मनी प्लांट ...

    ReplyDelete
  8. अच्छी यादें हों
    या
    बुरी यादें हों
    जीने का सबब होती हैं
    बहुत सुंदर पोस्ट

    God Bless U

    ReplyDelete
  9. जीवन से जुड़ी सी यादें

    ReplyDelete
  10. प्यार से प्यार वाली लेखनी ..बहुत खूब

    ReplyDelete
  11. लाजवाब अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  12. यादों का क्या है
    यादें आती-जाती है
    ये दिल सज़ा पाता
    गुस्ताखी निगाहें कर जाती है
    यादों का क्या है
    यादें तो आती-जाती है।


    आपके गीत को पढ़कर
    आपके गीत की खिदमत में।
    आपने बहुत ही सुन्दर लिखा है
    बधाई

    ReplyDelete