Recent Visitors

Sunday, August 4, 2013

गजल

अभी मुझे कुछ ज्यादा मालूम नही है गजलो के बारे में ,जो गलतियाँ की हो कृप्या उन्हें मुझे बताये ताकि मैं फिर उन्हें न दोहराऊ


गजल
बहर २२ २२ २२ २२ २२ २२ २२ २२

जब आया हूँ तो बात बताकर जाऊँगा
राजो से परदा आज हटाकर जाऊँगा

जितना जब मुझको जिसने तडपाया था,अब
मैं भी उनको उतना सताकर जाऊँगा

तूने मेरी राहों में खार बिछाये थे
एक काँटा मैं भी आज चुभाकर जाऊँगा

हसते गाते गुनगुनाते एक दिन यूँ ही
जो रूठे है उनको मनाकर जाऊँगा

रुलाया है तुमने जुदाई में ,एक दिन
तुमको अलविदा कह रुलाकर जाऊँगा

डॉ शौर्य मलिक  

49 comments:

  1. waaaaaaaah bahut khubsuraat gazal hai......bahut khub..
    do she'r to lazvab hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया अशोक भाई

      Delete
  2. हसते गाते गुनगुनाते एक दिन यूँ ही
    जो रूठे है उनको मनाकर जाऊँगा

    बहुत सुन्दर भाव

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  3. हसते गाते गुनगुनाते एक दिन यूँ ही
    जो रूठे है उनको मनाकर जाऊँगा

    बहुत सुन्दर शौर्य मलिक जी ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  4. Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  5. बहुत सुंदर गजल, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  6. बहुत ही बेहतरीन गजल....
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  7. बहुत खुबसूरत ग़ज़ल!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  8. बहुत सुंदर गजल, शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  9. प्रयास अच्छा है... सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  10. कल 05/08/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Delete
  11. बहुत अच्छी ग़ज़ल है...दूसरे शेर में "तड़पाया" कर लीजिये बस!!

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार , शुद्धिकरण कर दिया गया है

      Delete
  12. Replies
    1. बहुत बहुत आभार ,

      Delete
  13. "जो रूठे है उनको मनाकर जाऊँगा"

    सुन्दर कथन!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार ,

      Delete
  14. बहुत खुबसूरत ग़ज़ल!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार ,

      Delete
  15. बहुत सुन्दर प्रयास सफल रहा

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार ,

      Delete
  16. बहुत खूब ... लिखने का प्रयास करते रहे .. भाव आने जरूरी हैं ... शिल्प समय के साथ सीखने पे आ ही जाता है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा , समय के साथ भाव भी आने लग जायेंगे, कोशिश जारी रखूँगा

      Delete
  17. हसते गाते गुनगुनाते एक दिन यूँ ही
    जो रूठे है उनको मनाकर जाऊँगा
    वाह ... बहुत खूब कहा आपने ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार ,

      Delete
  18. हसते गाते गुनगुनाते एक दिन यूँ ही
    जो रूठे है उनको मनाकर जाऊँगा
    ..बहुत बढ़िया सकारात्मक सोच भरी गजल ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार ,

      Delete
  19. Replies
    1. बहुत बहुत आभार ,

      Delete
  20. Replies
    1. बहुत बहुत आभार ,

      Delete
  21. रुलाया है तुमने जुदाई में ,एक दिन
    तुमको अलविदा कह रुलाकर जाऊँगा

    बहुत खूब शौर्य जी।।।

    ReplyDelete
  22. बहुत खुबसूरत ग़ज़ल..... मालिक जी

    ReplyDelete
  23. सुन्दर भाव...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  24. जितना जब मुझको जिसने तडपाया था,अब
    मैं भी उनको उतना सताकर जाऊँगा''

    वाह क्या जज़्बा है आपका। सलाम है
    उम्दा ग़ज़ल
    (बांकी मुझे तख्ती के बारे में विशेष जानकारी नहीं है। )

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर गजल,

    ReplyDelete
  26. हसते गाते गुनगुनाते एक दिन यूँ ही
    जो रूठे है उनको मनाकर जाऊँगा

    वाह क्या कहने
    खुबसूरत गजल

    ReplyDelete
  27. sakaratmak soch seyukt sundar gazal badhayi

    ReplyDelete
  28. आपकी इस उत्कृष्ट अभिव्यक्ति की चर्चा कल रविवार (25-05-2014) को ''ग़ज़ल को समझ ले वो, फिर इसमें ही ढलता है'' ''चर्चा मंच 1623'' पर भी होगी
    --
    आप ज़रूर इस ब्लॉग पे नज़र डालें
    सादर

    ReplyDelete